बेटी का चेहरा भी नही देख पाए पिता और दादा। एक साथ उठ गई 4 अर्थियां, गाँव में छाया मातम

बेटी का चेहरा भी नही देख पाए पिता और दादा। एक साथ उठ गई 4 अर्थियां, गाँव में छाया मातम

राजस्थान के राजसमंद जिले के रेलमगरा क्षेत्र में रहने वाले एक परिवार में बेटी का जन्म 9 दिन पहले हुआ था। बेटी के जन्म से पूरे परिवार में खुशनु’मा माहौल छाया हुआ था, हर कोई खुश था। लेकिन किस्मत हो इस परिवार की खुशी मंजूर नहीं थी । दोस्त आपको बता दें कि जिस घर में 9 दिन पहले बेटी का जन्म हुआ था उसी घर में 9 दिन बाद तीन लोगों की एक साथ मौत हो गई जिसके कारण यह पूरा परिवार एवं गांव सदमे में आ गया है।

पूरे गांव में किसी के भी यहाँ ना चूल्हा जला है और ना ही किसी ने दुकान खोली है। इस द’र्दना’क घटना से पूरे गांव में मातम का मा’हौल हो गया है। एक साथ तीन अर्थियाँ के उठने पर गांव वालों के आंखों से आंसू नहीं रुक रहे थे। यह पूरा परिवार सदमे में जा चुका है । खबरों के अनुसार अजमेर के भील’वाड़ा में दु’र्घटना हुई जिसमें 4 लोगों की मृ’त्यु हो गई। बता दें कि इस दुर्घट’ना में क्षतिग्रस्त हुए गाड़ी में युवक अपने पिता का इलाज करवा करके अपनी मां के साथ घर लौट रहा था। मौके पर ही तीनों की मृ’त्यु हो गई ।

9 दिन पहले ही इस युवक की पत्नी ने बेटी को जन्म दिया था। यह युवक एवं इसके माता पिता बेटी का चेहरा तक नहीं देख सके और कार व ट्रक में टक्कर होने के कारण इन तीनों की द’र्दना’क मृ’त्यु हो गई। गांव में जैसे ही यह खबर पहुंची पूरा गांव सदमे में आ गया है। एक ही घर से एक साथ तीन अर्थियाँ देख कर परिवार वालों का रो रो कर बुरा हाल हो चुका है। इस युवक की पत्नी भी गहरे सदमे में है।

बता दें कि कार सवार अमरापुर के रहने वाले प्रताप गाडरी अपनी पत्नी सोनी एवं बेटे देवीलाल के साथ जा रहे थे। इनके साथ उनका एक रिश्तेदार भी कार में मौजूद था। खबरों के अनुसार प्रताप के पैर में चोट आई थी जिसके इलाज के लिए अपने बेटे एवं पत्नी के साथ जयपुर गए थे ।इलाज सफल होने के बाद वह स्वस्थ होकर के घर लौट रहे थे।

इसी बीच यह दुर्घटना हुई जिसमें इन चारों लोगों की जान चली गई । युवक एवं उसके माता पिता के शव का अंतिम संस्कार परिवार के छोटे बेटे ने किया। वही साथ वाले रिश्तेदार का अंतिम संस्कार उसके निवास स्थान पर परिवार द्वारा किया गया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.