अन्धविश्वास और मौ’त का डर: परिवार के 14 लोगों की मौत के बाद 31 साल से ‘दुल्हन’ बन कर रह रहा है आदमी

अन्धविश्वास और मौ’त का डर: परिवार के 14 लोगों की मौत के बाद 31 साल से ‘दुल्हन’ बन कर रह रहा है आदमी

भारत एक ऐसा देश है जहां लोग बड़ी आसानी से अंधविश्वास और टोने-टोटके पर न चाहते हुए भी विश्वास करते हैं। आज हम आपको अंधविश्वास की एक ऐसी घटना बताने जा रहे है जिसके बारे आप जानकर हैरान हो जाएंगे। चिंताहरण चौहान नाम का एक शख्स पिछले 31 साल से एक अन्धविश्वास को ढो रहा है, जो अपने आप में अनो;खा हैं। पर अगर आप उसके बारे में उसके हिसाब से जानेंगे तो वह अंधवि;श्वास नहीं, एक तरीका है जिससे उसके बच्चों की जान बची हैं।

यह पूरी घटना यूपी के जौनपुर के रहने वाले 67 साल के चिंताहरण चौहान की हैं। चौहान की पहली शादी 14 साल के उम्र में हुई थी, पर कुछ वक्त बाद उनकी पहली पत्नी का मौ;त हो गया। उसके बाद चौहान ने पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में एक ईंट की भट्टी में नौकरी मिली। वहीं जिस दुकान से वो अनाज लाता था, उसके मालिक की बेटी से चार साल बाद शादी कर ली। पर परिवार वालों को उसकी दूसरी शादी पसंद नहीं आई, इस कारण उसे उसको छोड़ना पड़ा। बाद में उसे पता चला की जिस लड़की को उसने छोड़ दिया था उसने सदमे में आकर आ;त्मह;त्या कर ली।

चौहान ने परिवार वालों के कहने पर उसने तीसरी शादी कर तो ली, पर उसके बाद चौहान की मुसीबतें शुरू हो गई। सभी ये शादी से बहुत सारी उम्मीद जोड़े हुए थे, पर ऐसा कुछ नही हुआ। उसी बीच उसे दिनाजपुर वाली लड़की के सपने आने लगें, उस सपनो में वह लड़की रोती और चौहान को धोखा देने के लिए कोसती थी।

सपने आने के बाद से चौहान के जिंदगी में मुसीबतें आनी शुरू हो गई। परिवारवालों की एक-एक कर मौ;त होने लगी, शुरुवात पिता की मृत्यु से हुई, फिर बड़े भाई-भाभी और उनको दो बच्चों की, और उसके छोटे भाई और उसके सात बच्चों की भी, यह शिलशिला चलता गया। इसी बीच उसको बंगाली पत्नी के सपने आते रहते थे।

उन्ही में से एक सपने में वो उससे माफ़ी मांग रहा था, “मैंने उससे कहा कि वो मुझे माफ़ कर दे और उसके परिवार को बख्श दे। उसने कहा कि चौहान को हमेशा एक दुल्हन की तरह सजना होगा ताकि इस रूप में वो लड़की हमेशा उसके साथ रह सके।” तब से चौहान ने दुल्हन की तरह रहने लगा और इसके बाद उसके परिवार में मौ;त होनी भी बंद हो गई।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.